Poem (Hindi)

सत्य कि तलाश

जब कभी खुद को अकेला पाया चारों ओर सन्नाटा घना अँधेरा पाया, मन में बस एक ही विचार आया कौन है वो जिसने मुझे बनाया, अगर उसने मुझे बनाया तो दुखों के साथ क्यों बनाया। यकि नहीं होता कि एक दिन मैं मरुँगा, क्या मेरे अंदर भी कोई आत्मा हैं कभी महसूस नहीं होता, फिर… Continue reading सत्य कि तलाश

poem (english)

Persevere

Sitting at the verge of the boat sailing it through the storms detached with everything he have but still attached to his hope. Life is not so easy making every second count heading towards destination without thinking of rest. Storms are just a hurdle to prove him more stronger destiny is not favouring him still… Continue reading Persevere

Poem (Hindi)

कशमकश

जिसे पाने की दिल में कोई तमन्ना ही न थी, उसको खोने का आज हमको ये ग़म कैसा।। वो कहते है हमसे तुम इसके काबिल ही न थे, ईल्म उनको हमारी काबीलियत का कैसा।।