Shayari

निगाहें

फखत देखा था उनकी निगाहों मे इक दफा, किसी और के तसव्वुर मे अब उठती नहीं  निगाहें // Read More- काबिलियत गुमनाम परिंदा मिजाज इंतजार अक्स ©COPYRIGHT 2020 All rights reserved to Writomaniacs.

Shayari

काबिलियत

जिसे पाने की दिल में कोई तमन्ना ही न थी, उसे खोने का आज हमको ग़म ये कैसा।। वो कहते है हमसे तुम इसके काबिल ही न थे, ईल्म उनको हमारी काबीलियत का कैसा।। Read more - गुमनाम परिंदा मिजाज इंतजार अक्स ©COPYRIGHT 2020 All rights reserved to Writomaniacs.

Poem (Hindi)

कश्मकश

जिसे पाने की दिल में कोई तमन्ना ही न थी, उसे खोने का आज हमको ग़म ये कैसा।। वो कहते है हमसे तुम इसके काबिल ही न थे, ईल्म उनको हमारी काबीलियत का कैसा।।

Poem (Hindi)

सत्य कि तलाश

जब कभी खुद को अकेला पाया चारों ओर सन्नाटा घना अँधेरा पाया, मन में बस एक ही विचार आया कौन है वो जिसने मुझे बनाया, अगर उसने मुझे बनाया तो दुखों के साथ क्यों बनाया। यकि नहीं होता कि एक दिन मैं मरुँगा, क्या मेरे अंदर भी कोई आत्मा हैं कभी महसूस नहीं होता, फिर… Continue reading सत्य कि तलाश

Random thoughts

Alone (Fiction)

It's three years passed when I had decided to live alone. From quieting my friends to maintain distance from my relatives. Everything was wonderful, life was going smoothly. I was no more witness to their disturbances. I got a chance to meet me, I learn to enjoy my own company. By doing all this I… Continue reading Alone (Fiction)

Poem (Hindi)

चाँद और रोशनी।

  हमने तो उससे माँगी थी रोशनी उसने तो हमें चाँद ही दे दिया, खुश हुए थे बहुत हम उसे पाकर हमें लगा जैसे हमारी जिंदगी में अंधेरा ही न रहा। लोगों ने कहा हमें कि हर चाँद में दाग होता हैं, हमने कहा कि यह चाँद खुदा ने हमे बेदाग दिया हैं। हर कदम पे… Continue reading चाँद और रोशनी।

poem (english)

Life is a Beautiful Song

  Life is a beautiful song Sung it's every bit and all, Sometimes you will go offbeat doesn't matter start again it all.... Now it's time to sing a sad song but one day you will sung with pleasure don't loose hope there always a dawn after every eve all you have to do is… Continue reading Life is a Beautiful Song

Poem (Hindi)

उम्मीद की किरण।

  वह हँसता सा चेहरा वह कोयल सी बोली, कहाँ खो गया सब एक ही पल में, हैवानियत का ऐसा मंजर हुअा, कि इंसानियत शरमोसार हो गयी... किसे दोष दूँ मैं इसका, उन दरिंदो को, समाज को या फिर समाज कि सोच को, जो भी हो अब उसकी जिंदगी तो तबाह हो गयी, नहीं अायेगी… Continue reading उम्मीद की किरण।